Srijan(सृजन – हौसलों की उड़ान)

एक लेखक ना होते हुए भी सृजन – होसलो की उड़ान का एक पुस्तक के रूप में आ पाने का समस्त श्रेय Arimardan Singh Gaur एवं Manish Kachhal जी को है | लेकिन यह प्रयास एक कमाल की अनुभूति मुझे रोज प्रदान कर रहा है | फोन से पुस्तक के लिए बहुत सी तारीफ सुन चूका हूँ लेकिन पिछले दो दिनों में Archit Jain और दिशा फॉर इंडिया के श्री विजय पाल सिंह जी का यह कहना की मानसिक परेशानी और हलके से अवसाद ( DEPRESSION ) की स्तिथि में “सृजन” पुस्तक का पढ़ना उनके लिए शानदार अनुभव रहा | पुस्तक ने मन को सकारात्मक करने में एक अच्छी भूमिका निभायी और दोनों को फिर से काम करने के लिए ऊर्जा प्रदान की |
ऐसा सुन कर मुझे जो खुशी मिली वो अब भी महसूस कर पा रहा हूँ ….

शायद पुस्तक जिन प्रयासों के लिए लिखी गयी है उसको पूरा कर पा रही है

Back Page Front Page